Warning: Declaration of QuietSkin::feedback($string) should be compatible with WP_Upgrader_Skin::feedback($string, ...$args) in /var/www/wp-content/plugins/ocean-extra/includes/wizard/classes/QuietSkin.php on line 12

Warning: session_start(): Cannot start session when headers already sent in /var/www/wp-content/plugins/userpro2/includes/class-userpro.php on line 197
हिन्दी लेखक डॉट कॉम - निज भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल

बेजुबान

खामोश रहकर भी दिल में भरी मोहब्बत की दास्तां बयां हो सकती है कोई गर हो बेजुबान तो उसकी भी जुबां हो सकती है उसकी जो भी हो भावना आंखों से बोल उठती…

Continue Reading

जिन्दगी की किताब

मेरी तरफ पीठ है तुम्हारी अंजान नहीं जानी पहचानी सी लग रही हो शेल्फ के खानों में लगी किताबों में उलझी हो पलट के देखो तो पढूं तुम्हारे चेहरे की कहानी तुम्हारी किताब…

Continue Reading

दिल की एल्बम

मैं दर्पण में झांकती हूं मेरी छवि बन जाती है मैं दर्पण से हट जाती हूं मेरी छवि भी मेरे संग संग खिसक जाती है तस्वीर जो मैं किसी की अपनी आंखों के…

Continue Reading

मेरी बेटी

जब चलती मेरी गुडिया रानी॥ बजते घुघरू पाँव में॥ आ जा लली मेरी बाहों में॥ हर पल तुझको खुश रखूगी॥ सारी खुशियाँ पहनाऊँगी ॥ तू जो मांगे हीरे मोती ॥ अगर मिले तो…

Continue Reading

बुद्ध के बोध से

जिन्दगी मुश्किलों भरी आसान लगती है तेरी एक खिलखिलाहट से दिल की कली फूल बन खिलकर महक उठती है तेरी एक मुस्कुराहट से तू कभी परेशान न होना यूं ही सदैव मुस्कुराते रहना…

Continue Reading

जीवन का सार

जहां प्यार है वहां तकरार है यही तो जीवन का सार है मौन रहकर हो जाते हैं बड़े से बड़े मसले हल भाषा का संवाद बंद कर दे खामोशियां अपनाने से दिल से…

Continue Reading

जब रक्षक हीं भक्षक बन जाए

तुम्हें चाहिए क्या आजादी , सबपे रोब जमाने की , यदि कोई तुझपे तन जाए , तो क्या बन्दुक चलाने की ? ये शोर शराबा कैसा है ,क्या प्रस्तुति अभिव्यक्ति की ? या…

Continue Reading

जिन्दगी की रफ्तार

जिन्दगी की रफ्तार थोड़ी थामो नहीं तो जिन्दगी हाथ से निकल जायेगी बेमकसद मंजिलों की दौड़ को छोड़ो खुद के लिये समय निकालकर खुद की तरफ ही चल पड़ो कोई साथ चलने को…

Continue Reading

अंतहीन

शाम का धुंधलका कोहरे की चादर आंखों से ओझल होते दृश्य और मेरे दिल से दूर भागता मेरा ही साया मैं खुद के अस्तित्व से कभी परिचित थी पर अब हूं अपरिचित अंजान…

Continue Reading

मुझे न आया

चेहरा ढक लिया हाथों से माथा दबा दिया अंगुलियों की पोरों से पलकें भींच ली आंसू रोक आंखों में सांसे सहम गई घुटती धड़कनों के तंग गलियारे में परेशान हूं मैं समय की…

Continue Reading

मेरी प्रियतमा

ओ मेरी प्रियतमा,तुझसे मैंने प्यार ही मांगा है कोई दौलत नहीं माँगी है, अगर तू इसे इंकार कर देगी तो भी ये दिल तेरे लिए हाजिर है दुनिया में यूँ तो हसीं बहुत…

Continue Reading

एक

काफिला है एक रेगिस्तान है एक रास्ता है एक मंजिल है एक आसमान है एक जमीं है एक फासला है एक नजदीकियां हैं एक लहर है एक भंवर है एक सागर है एक…

Continue Reading
Close Menu