नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें किसको सूझे देखना , · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 17, 2017
57 Views
0 0

किसको सूझे देखना ,

Written by

सामयिक दोहे
कौन छुआ ऊंचा शिखर,कौन हुआ भयभीत
समय-समय की बात है ,समय-समय की प्रीत
**
ज्ञान गणित के फेल हैं ,फेल जोड़ औ भाग
राजनीति की मिर्च से ,लगती है जो आग
**
नींद भरी थी आँख में,खुला रहा लंगोट
कोई तपसी दे गया ,जी भर पीछे चोट
**
फूटे करम बिहार के,आग लगी कंदील
किसको सूझे देखना ,पैरों कांटे कील
**
थूक-थूक के चाटना, आज यही है रीत
सत्ता-कुर्सी चाह की ,घुटन भरी है प्रीत
**
अपने मकसद पास वो,बाकी दुनिया फेल
रखता जला मशालची ,खून पसीना तेल

सुशील यादव

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी