नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें कैसे दिल बहलायें · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 10, 2017
50 Views
0 0

कैसे दिल बहलायें

Written by

 

कठिन डगर है पग में छाले , अब तो चला न जाए !
हमराही ने बांह छोड़ दी, व्यथा सही न जाए !!

सपने टूटे , ऐसे बिखरे , आंखें ठगी ठगी सी !
अपनों ही ने हमको लूटा , कैसे दिल बहलाएं !!

ग्रहण लगा है अगर चांद को , नज़रें सभी चुराये !
समय अछूत बना दे हमको , डुबकी कहाँ लगाएं !!

पावन रिश्ता मन से जोड़ा , गाँठे रेशम रेशम !
हाथ से छूटा , एसा टूटा , पकड़ नहीं हम पाये !!

झूठी कसमें , झूठे वादे , आखिर दिल टूटा है !
आंख मूंद कर चलने वाले , छलना ही बस पाएं !!

जब लिए तूलिका चित्र उकेरे , कैनवास खाली था !
झूंठी तस्वीरों को बोलो , अब हम कहाँ सजाएं !!

दिन है चुप चुप , रातें चुप सी , दामन खामोशी का !
समय ने करवट एसी बदली , चुप से काम चलाएं !!

बृज व्यास

Rating: 3.5. From 3 votes. Show votes.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Comments to कैसे दिल बहलायें

  • हृदयस्पर्शी रचना !

    Rating: 4.8. From 2 votes. Show votes.
    Please wait...
    Kumud vyas August 16, 2017 8:02 pm

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिन्दी लेखक डॉट कॉम का सदस्य बनें... अपनी रचनाएँ अधिक से अधिक हिन्दी पाठकों तक पहुचाएँ ... वेबसाइट में प्रकाशित रचनाओं पर कमेंट्स एवं रेटिंग्स देकर लेखकों का प्रोत्साहन करें...

Social connect: