नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें गजल · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Sep 19, 2017
74 Views
2 0

गजल

Written by

गजल
*******
बात है, ‘लाजवाब’ समझा करो ………..
*
वन है, ‘मूल्यवान’ समझा करो ।
बात है, ‘लाजवाब’ समझा करो ॥
*
अब न काटेंगे वृक्ष, कर लो निश्चय ।
हर सड़क पर हो वृक्ष, समझा करो ॥
*
वन्य प्राणी है, हमारे मित्र और साथी ।
वनों से मिलती हमे सांस समझा करो ॥
*
वन मे रहते चिड़ा-चिड़िया, हिरण -हिरणी ।
वनो से है जीवन की आस, समझा करो ॥
*
“वन” से है, मेरे /आपके दुनिया के ।
वंशज का ‘जीवन’ समझा करो॥
*
“वन” को “वन” ही रहने दो, इन्सानो ।
के लिए “नगर” बने है, समझा करो ॥
*
जल ही जीवन, वन ही जीवन ।
कह रहा ‘उदय श्री’ समझा करो ॥

* उदय श्री. ताम्हणे

Rating: 0.5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी