नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें चाँद भी है शर्माया · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 21, 2017
32 Views
0 0

चाँद भी है शर्माया

Written by

 

घूँघट हटा चांदनी बिखरी , शीतल शीतल छाया !
यहां वहां फैला उजियारा , चांद भी है शर्माया !!

तेरे नाम पर सजधज सारी , तेरा नाम जुबां पर !
तेरे नाम पर जग भूली हूँ , दिल में तुझे बसाया !!

ऋतुओं ने भी रंग बदला है , फितरत सबकी बदली !
नीयत पर विश्वास नहीं अब , सबका मन भरमाया !!

जहां नेह संग पले समर्पण , प्यार वहीं सजता है !
आंखों में विश्वास बसे तो , सब कुछ हासिल पाया !!

हाथ थाम कर साथ चले हैं , मन्ज़िल हमको पाना !
अगर भरोसा कायम रक्खा , लक्ष्य हाथ है आया !!

एक दूजे का साथ रहा तो , कठिन डगर है आसां !
तीज मने त्यौहार मनेगें , पल पल है हरषाया !!

तेरी खुशियां मेरी खुशियां , वारें एक दूजे पर !
मुस्कानों को पलते देखा , मन अपना सरसाया !!

बृज व्यास

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी