नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें तितली और भंवरा · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Sep 30, 2017
55 Views
0 0

तितली और भंवरा

Written by

कुजं में फूलों का पहरा
भंवरा वहां भंवर रहा
उड़ती हुई तितली आयी
फूलों पर आकर इतरायी
भंवरा उसके निकट गया
तितली ने न मुड़कर देखा
भंवरा फूलों के पास गया
फूलों को दी अपनी अर्जी
विनती अपनी फूलों से की
तितली न माने फूलों का कहा
हंसकर उड़नपरी है चली
भवरें को न तितली है मिली
भंवरा बेचारा अकेला हुआ

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
कविता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी