नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें तिरंगा · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 12, 2017
42 Views
0 0

तिरंगा

Written by

                       -: 1 :-

हिन्दू का है रंग केशरिया, हरा रंग इस्लाम का

श्वेत रंग ईसाई का है, नीला सिक्ख महान का ।

आपस में हम एक रहें, यही तिरंगे का है मन्त्र

कहीं विखंडित न हो जाये, नक्शा हिंदुस्तान का ।।

 

                      -: 2 :-

जब तक धरा पे सिंधु रहे, और बहती गंगा हो

अंतरिक्ष   में   रहें   दमकते , सूरज   चंदा  हो ।

एक यही  अरमान  हृदय में, मरते  दम तक है

भारत के  हर  घर – घर में, लहराये  तिरंगा हो ।।

 

 

 

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
कविता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी