निष्कासन

By | 2016-10-05T21:23:14+00:00 September 4th, 2016|लघुकथा|0 Comments

गाँव के बाहर गुमटी पर जो चायवाला था पेपर मँगाया करता था।वहीं जाकर सुरेश पेपर देख लिया करता था ग्रामीण बैंक की भर्ती निकली थी सुरेश ने सोचा वह भी फॉर्म भर दे ।सुरेश के पिता मंदिर के पुजारी थे इतनी आय में बेटे को प्रायवेट बी.ए.करा लिया था गाँव वाले जानते थे सुरेश बहुत होनहार है।

                      फॉर्म ऑनलाइन भरना था सुरेश सुबह की बस पकड़कर शहर के लिए चला । मौसी शहर में ही रहती थी सोच -देर हुई तो रुक जाएगा।सायबर कैफे जाकर फॉर्म भरा,बस के इंतज़ार में जिस पुस्तक की दूकान पर खड़ा था वहीं पेपर में देखा अनुसूचित जाति और जन जाति के लिए निःशुल्क बैंक कोचिंग हो रही है वह स्थान ज्यादा दूर नहीं था सो सुरेश ने सोचा चलो वहाँ जाकर देख लेते हैं हो सकता है कोई जानकारी मिले।मौसी शहर में ही रहती थी सोचा-देर हुई तो रुक जाएगा।

                            कितु वह तो उच्च जाति का था बहुत गिड़गिड़ाने पर भी  उसे प्रशिक्षण कक्ष में प्रवेश नहीं मिला लाचार सुरेश कक्ष की पिछली खिड़की से सुनने का प्रयास  करने लगा उसे पूरा विश्वास था कि उसका गणित अच्छा है हिंदी और अंग्रेजी पर भी अधिकार है यदि थोड़ा निर्देशन मिल जाए तो वह लिखित परीक्षा में पास हो जाएगा।

                           अबे चोर ! वहाँ से क्यों झाँकता है?-चौकीदार ने डपट कर कहा।

 भैया मैं चोर नहीं हूँ थोड़ा देख कर मुझे समझ लेने दो।-सुरेश ने कहा

                                लेकिन सुरेश को कान पकडकर बाहर निकाल दिया गया।

— डॉ.उषा शुक्ला

In Roman

NISKASAN

Gaon k bahar gumti par jo chay wala tha paper mangaya karta tha.wahin jakar Suresh paper dekh liya karta tha,gramin bank me bharti nikli thi Suresh ne soncha wah bhi form bhar de. Suresh k pita mandir k pujari the itni aay me bête ko private me B. A. kara liya tha .Gaon wale jante the Suresh bahut honhar hai.

Form on-line bharna tha Suresh subah ki bas pakad kar sahar k liye chala.Mausi sahar me hi rahti thi socha der hui to ruk jayega. Cyber cafe jakar form bhara ,bus k intzar me jis pustak ki dukan pe khada tha wahin paper me dekha anusuchit jsti aur janjati k liye nih:sulk bank coaching ho rahi hai wah asthan jyada dur nahi tha so Suresh ne socha chalo waha jakar dekh lete hain ho sakta hai koi jankari mile. Mausi sahar me rahti thi socha der hui to ruk jaiga.

Kintu wah to uchh jati ka tha bahut gidgidane par bhi use prasikashan kaksh me prawes nahi mila lachar Suresh kaksh ki pichli khidki se sunne ka prayas karne laga use pura vishwas tha ki uska ganit achha hai hindi aur angregi par bhi uska adhikar hai yadi thoda nirdesh mil jaye to wah likhit pariksha me pass ho jaye jayega.

Abe chor ! waha se kyon jhankta hai ?-chaukidar ne dapat kar kaha.

Bhaiya main chor nahi hun thoda dekh kar mujhe samajh lene do : – Suresh ne kaha

Lekin Suresh ko kan pakad kar bahar nikal diya gaya.

:- Dr. Usha Shukla  

Rating: 3.5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment