नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें पल मुस्कराने लग गये · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Jun 15, 2017
129 Views
0 0

पल मुस्कराने लग गये

Written by

कदम क्या संभले हमारे ,
वे पास आने लग गये |

अपना पराया पहचानने में ,
हमको जमाने लग गये |

आंसुओं ने पाला पोसा ,
रिश्ते पुराने कह गये |

दहलीज़ तक ना थे गंवारा ,
दिन पुराने लद गये |

अपना नहीं बेगाना समझा ,
रिश्ते निभाने लग गये |

आज वे हमदर्द बनकर ,
झूंठे फसाने कह गये |

दगा करते आये हमसे ,
वे आज़माने लग गये |

साफगोई दिल में ना थी ,
फिर से बहाने कर गये |

वक्त क्या बदला सितमगर ,
पल मुस्कराने लग गये |

माँ की दुआएं साथ थी ,
सपने सुहाने सज गये |

— भगवती प्रसाद व्यास

Rating: 4.6. From 16 votes. Show votes.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी