नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें बात कही फूलों ने · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 23, 2017
36 Views
1 0

बात कही फूलों ने

Written by

” ——————————– बात कही फूलों ने ” !!

खुशबू , रंगत , सुन्दरता है , आकर्षण फूलों में !
प्यारी प्यारी छवि निखरती , याद बही फूलों में !!

स्वागत अभिवादन करना है , देनी कोई बधाई !
फूलों से तुलता है कोई , तोल सही फूलों ने !!

केश सजाओ चाहो जैसे , बांधो या लहराओ !
दिल चाहो काबू में करना , राज़ यही फूलों में !!

प्रेम कहानी बड़ी रंगीली , दर्ज हुई जाती हैं !
बन्द पृष्ठ जो खुले अगर तो , बात कही फूलों ने !!

मौसम आये , मौसम जाये , पवन करे सरगोशी !
ऋतुओं में उन्माद जगा दे , बात वही फूलों में !!

सजधज कहो जवानी की या , नई कोई शुरुआत !
नहीं रात की बात बने है , खास यही फूलों में !!

पूजन अर्चन सभी अधूरा , मंदिर घाट के देवा !
भक्ति भाव में रस ना बरसे , आस बही फूलों में !!

प्रथम बिदाई हो या अंतिम , साथ सभी चाहे हैं !
शीश चढ़ाओ , राह बिखेरो , चाह यही फूलों में !!

बाग बगीचों में रौनक हो , खूब सजे हरियाली !
कांटों में भी शीश उठाये , नाज़ यही फूलों में !!

  • बृज व्यास
No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी