नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें बेखबर फ़ासले · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 18, 2017
93 Views
0 0

बेखबर फ़ासले

Written by

लघु कथा – बेखबर फासले

 

सहजता से चल रही रमा और राजन की गृहस्थी में बेखबर फासले दस्तक दे चुके थे । मन के किसी कोने में दोनों ही एक अलगाव सा महसूस कर रहे थे पर इसे व्यक्त करने से बचते थे ।

दस साल की भरी – पूरी खुशहाल जिंदगी में इन फासलों ने दस्तक तब दी जब एक दिन अचानक ही राजन का दोस्त रवि उनके घर आया। फिर तो यह क्रम ही बन गया । रवि का रोज रोज घर आना रमा और उसकी युवा होती बेटी को कतई पसन्द नही था पर राजन की ख़ुशी के लिए , न चाहते हुए भी वह रवि के स्वागत- सत्कार में कोई कमी नही करती ।

रवि , बेरोजगार होने के बाबजूद भी खुल कर जीवन जीने का आदी था । घर से धनाड्य होने के कारण फिजूलखर्ची उसके स्वभाव में थी । जब-तब वह कुछ न कुछ उपहार लाता रहता । राजन उसकी इस दरियादिली का कायल था और इस बात से पूरी तरह बेखबर था कि – रवि की दोस्ती उसके गृहस्थ जीवन में बड़ा फासला लेकर आने वाली है । रमा आने वाले इस बेखबर फ़ासले को भांप चुकी थी और इशारे ही इशारे में राजन को आगाह भी कर चुकी थी पर राजन , रमा की बात को हंसी में उड़ा देता जिससे रमा सदैव ही असहज रहती । यही असहजता उन दोनों के बीच फ़ासले में बदलती जा रही थी ।

समय निकलता गया और  राजन , रवि के रंग-ढंग में ढ़लता गया । अब देर रात नशे में चूर घर लौटना उसकी दिनचर्या बन गई । रमा उसे समझाती पर राजन को कोई फर्क नही पड़ता था । जान से ज्यादा चाहने वाली युवा बेटी को भी अब वह जब – तब दुत्कार दिया करता था जिससे पिता-पुत्री के रिश्ते में भी फ़ासले बढ़ते जा रहे थे । रमा इन हालातों से बहुत अवसाद में रहने लगी । उसका जब -तब बीमार पड़ जाने का भी राजन और रवि पर कोई असर नही हुआ । एक दिन माँ – बेटी ने राजन के सामने ही रवि को खूब खरी – खोटी सुनाई और उसके घर आने पर रोक लगा दी । रवि ने इसे अपने अहम का प्रश्न बना लिया और अब बाहर ही राजन को ज्यादा से ज्यादा शराब पिलाने लगा । अपनी जिंदगी और मौत के बीच घटते जा रहे फ़ासले से बेखबर रवि के लीवर ने जबाब दे दिया और अंततः एक दिन वह अपनी दुनिया से रुखसत हो गया ।

रमा सोचती ही रह गई – कैसा था राजन के लिए उसका यह दोस्त , जिसने उन दोनों के बीच वह फासला ला दिया जो अब कभी पाटा नही जा सकता ।

– देवेंन्द्र सोनी , इटारसी।

 

 

स्वरचित

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
लघुकथा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिन्दी लेखक डॉट कॉम का सदस्य बनें... अपनी रचनाएँ अधिक से अधिक हिन्दी पाठकों तक पहुचाएँ ... वेबसाइट में प्रकाशित रचनाओं पर कमेंट्स एवं रेटिंग्स देकर लेखकों का प्रोत्साहन करें...

Social connect: