नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें राखी के दोहे · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 17, 2017
34 Views
1 0

राखी के दोहे

Written by

बंधन समझ न राखिया ,बहन रही जो भेज
विश्वास अडिग आपसी ,उत्तम दान-दहेज

छाँव पलक मैं पालती,रखती तुझे सहेज
भाई निर्मल नेह को, धूप न लगती तेज

सोने मांगू बालियां ,नही मोतिया हार
भाई तेरा प्यार ही,जीवन भर उपहार

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी