नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें संवाद... · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Jun 21, 2017
131 Views
0 0

संवाद…

Written by

अपनों से अपने लिए …

तू है दुखी पता मुझको भी चल रहा है ,
पर मेरे बस में कहाँ ये सब जो चल रहा है |
मैं परेशां तू भी परेशान ऐसा ही हाल है आजकल ,
ऐ वक़्त बदल दे ये दिन बहुत हो गया अब वाक़ई खल रहा है |
समझो तो बस में नहीं सबकुछ मेरे पर प्रयास जारी है ,
एक रोज वक़्त बदलेगा वक़्त झूठी ही सही आस जारी है |
मुझे पता है दिन कट रहे हैं लोग बढ़ रहे है सूरज ढल रहा है ,
पर मेरे बस में कहाँ ये सब जो चल रहा है |
तू है दुखी पता मुझको भी चल रहा है ,
पर मेरे बस में कहाँ ये सब जो चल रहा है |
— आकाश पाण्डेय
Rating: 4.5. From 8 votes. Show votes.
Please wait...
Article Categories:
कविता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी