नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें सच्चा प्रेम समर्पण है · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 31, 2017
63 Views
1 0

सच्चा प्रेम समर्पण है

Written by

सच्चा प्रेम समर्पण है
प्रेम में सब अर्पण है
प्रेम त्याग का दर्पण है
लोक-लाज सब तर्पण है

महलों की रानी दीवानी है
दर-दर कृष्ण कहानी है
कृष्ण से उसकी ऐसी लगन है
जग भूली वो श्याम मगन है

हँसते-हँसते गरल पिया है
तब जाकर कहीं पिया मिला है
ऐसा प्यार कहाँ मिलता है
तब जाकर कहीं रब मिलता है

पवन तिवारी, मुंबई

Rating: 2.0. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

लेखक,पत्रकार,वक्ता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी