नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें समय बड़ा चंचल है · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 20, 2017
26 Views
1 0

समय बड़ा चंचल है

Written by

आहट आज पवन है लाती , या मन में हलचल है !
बेकरार सी लगे निगाहें , बल खाता आँचल है !!

प्रेम के बंधन होते ढीले , शक़ की छांव घनेरी !
कहीं प्रेम में कंवल खिले हैं , कहीं लगे दलदल है!!

चोरी चोरी ताड़ा करते , लिये नज़र पैमाने !
मर्यादा की धार के आगे , झुकते सब मनबल हैं !!

निगरानी ही धर्म बने जब , सदा रहे हैं चौकस !
मात यहां देने सदैव ही , तत्पर बस छलबल है !!

उम्मीदों की डोर बांधती , रिश्ते रेशम रेशम !
रोज़ कसौटी पर कसता है , समय बड़ा चंचल है !!

आज नही तो कल आओगे , हमें यकीं है इतना !
इन्तज़ार तो सदा रहेगा , क्योंकि चाह प्रबल है !!

यहां करे परवाह कौन है , दामन सच्चाई का !
हमें नहीं कमज़ोर समझना , हम तो बड़े सबल हैं !!

बृज व्यास

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी