नमस्कार!   रचनाएँ जमा करने के लिए Login करें हमें आजमाने को · हिन्दी लेखक डॉट कॉम
Aug 30, 2017
44 Views
1 0

हमें आजमाने को

Written by

नहीं है फुर्सत फिर भी ख़बर है ज़माने को |

रास्ता कौन-सा जाता है आज भी मयखाने को |

अपने वफ़ा का उसे यकीन नहीं होता है जब भी |

कोई न कोई शर्त होती है बस हमें आजमाने को ||

No votes yet.
Please wait...
Article Categories:
गीत-ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

#वर्तनी