बादल

बादल पानी  लेकर आया

उमड़ घुमड़ कर नभ में छाया।

गरज गरज कर तुम खूब बरसे

छतरी लेकर निकले घर से

पेड़ों को तुमने नहलाया

बादल पानी लेकर आया।||१||

सुंदर फूल खिले उपवन में

कूक रही है कोयल वन में

पपीहे ने मल्हार है  गाया

बादल पानी लेकर आया।||२||

मोर नाचते दादुर बोले

मंद मंद पुरवैया डोले

इंद्रधनुष अम्बर में छाया

बादल पानी लेकर आया।||३||

खेतों में आयी हरियाली

जन-जन में फैली खुशहाली

धरती माँ की प्यास बुझाया

बादल पानी लेकर आया।||४||

सोखा लिया सूरज के बल को

छाया भेजी भू मंडल को

गर्मी कोसों दूर भगाया

बादल पानी लेकर आया।||५||

बौछारों की झड़ी लगायी

बच्चों ने नौका तैरायी

रिम-झिम का संगीत सुनाया

बादल पानी लेकर आया।||६||

                                 –अशोक मौर्य

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu