अक्षर-अक्षर,  खत में लिखकर,

खत को लेकर, घूमूं फिर…

अक्षर-अक्षर, तुम्हे पिरोकर,

अक्षर – अक्षर, चूमूं फिर…

फिर जब ये, मधुरस पीकर,

खत तुम तक पहुंचेगा…

अधरों से, छू लेना अपने,

ख्वाबों में ही, झूमूं फिर…

– वंदना अहमदाबाद

Say something
Rating: 2.8/5. From 3 votes. Show votes.
Please wait...