माँ मातेश्वरी

माँ मातेश्वरी

By |2018-01-20T17:04:15+00:00January 3rd, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

रस रक्त से एक पिंड बनाया
नारायण सा रंग रूप बनाया
प्राण पण से प्राण जगाया
भाव भर कर भक्त बनाया

पूरी शक्ति से सशक्त बनाया
मानवता का सुर सुक्त पढाया
तब जाकर यह संसार दिखाया
स्नेह उँडेल सागर भर डाला
शिव बन हर कष्ट पी डाला

दुनियां का दस्तूर सिखाया
शिव पिता है आप शिवाया
खेल कूद में कला सिखाए
सीख सिखाए मानव बनाए
खिला पिला कर हमें बढाए
आप निरक्षर पर हमें पढाए

सबसे पहले हमें खिलाए
आप जगे पर हमें सुलाए
कथा कहानी लोरी सुनाए
सुला सुला कर हमें जगाए

घर आँगन में धूम मचाएं
हम रूठें और आप मनाएं
रूठ रूठ कर हम सताएं
दुख देकर भी सुख पाजाएं

पुत्र हित में सब कुछ समर्पित
तेरे चरण में श्रद्धा सुमन अर्पित
भय सताये आंचल में छुप जाएँ
त्रिलोकी में ऐसा सुख नहीं पाएँ

आज सारा जहां चमन है
लगता यह तेरा ही मन है
तेरा सब तुझको अर्पण है
तेरे चरण में कोटि नमन है
तूं धरती माँ आप गगन है
तेरी स्मृति में मगन मगन है

– मगन सिंह जोधा

Comments

comments

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

Leave A Comment