ओहदा बदलते ही औरत के बदल जाते है स्वरूप

मां——-सास
बेटी——बहु
बहन—–ननद
भाभी—-जेठानी / देवरानी
क्यों खून कर देती है औरत अपने ही व्यक्तित्व का।

Say something
Rating: 4.3/5. From 4 votes. Show votes.
Please wait...