हुल के फूल

हुल के फूल

घिरे चारदिवारी के अंदर
खिलते नहीं है
वह तो
तुम्हारे और मेरे हृदय में भी खिल सकता हैं
जब तुम्हारे
आँखो के सामने
लोगों पर अत्याचार होता हैं
तुम्हारे पत्नी और बेटी को
उठा कर ले जाते है
कुछ बुरा सोचकर……
पहाड़ -पर्वत, नदि -नाला
और घर -दुवार से भी
तुम्हे बेदखल होना पड़े

तुम्हारे धन देोलत
लुट लेगें
विचार और सोच पर भी
फुल स्टोप लगायेगें
तब
अपने आप
देह का खून
गर्म हो जायेगा
नरम हथेली भी
कोठर मुट्ठी मे बदल जायेगा
कंघी किया सर का बाल भी
खड़े हो जायेगा
और मुंह से जोर
आवाज निकल जायेगी ___
हुल, हुल, हुल
तब तुम्हारे चट्टानी ह्रदय मे
हुल का फूल खिलेगा.

Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu