अपने हुश्न का ज़ाम यूँ हम पर न छलकाओ
मुझे होंठों से पीने दो तुम आंखों से पिलाओ

 

© राघवेश यादव ‘रवि’

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *