बचपन के ख्वाब

Home » बचपन के ख्वाब

बचपन के ख्वाब

By |2018-01-25T22:11:57+00:00January 25th, 2018|Categories: बचपन|Tags: , , |2 Comments

चलो कुछ याद करते हैं,
और कुछ भूल जाते हैं,
अपने बचपन के ख्वाबों को,
चलो फिर से सजाते हैं।

चलो गिल्ली बनाते हैं,
और डंडा भी लाते हैं,
बड़े भैया से छुप-छुप कर,
चलो उधम मचाते हैं।

चलो कंचे बजाते हैं,
और गड्ढा बनाते हैं,
किसी पेड़ के छाँव में जाकर,
चलो दो हाथ आजमाते हैं।

चलो माचिस चुराते हैं
और तीली जलाते हैं,
हारी बाजी जीतने के खातिर
चलो ताश के जोड़े बनाते हैं।

#शफ़ीक़

Say something
Rating: 4.8/5. From 4 votes. Show votes.
Please wait...

About the Author:

2 Comments

  1. Binayak January 26, 2018 at 10:29 pm

    good

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  2. Saurabh January 27, 2018 at 4:43 pm

    सराहनीय!!

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...

Leave A Comment