जब सन्नाटों में शोर लगे
जब धरती पर रहना बोझ लगे
जब लगे की नफरत भारी है
मोहब्बत में बड़ी लाचारी है
तब समझो की हम इंसान नहीं
हममे बचा अब इमां नहीं
जब अपना ही घर अंजान लगे
ना घर से निकलना आसान लगे
जब हर नजर से दिल डरने लगे
हर रिश्ते से जी भरने लगे
तब समझो कुछ बुरा सा है
संस्कारों में कुछ अधूरा सा है
जब मासूम आँखों में ख़ौफ़ दिखाई दे
जब उनका डर ना हमें सुनाई दे
जब बच्चो से बचपन छिनने लगे
वो कुछ कहने से झिझकने लगे
तब समझो हमसे हुयी कोई भूल है
या हम कहीं और ही मशगूल हैं
जब इंसानियत मरती दिखाई दे
मौत में हंसी के शोर सुनाई दे
जब पिता का दिल रोज रोता हो
बेटे को माँ के अश्क ना दिखाई दे
तब समझो समाज गिर रहा है
भविष्य अंधेरों से घिर रहा है
जब पैसो की खनक इतनी भारी हो
की इंसान बीमारी लगने लगे
जब देश को आज़ाद कराने वाले
एक काल्पनिक कहानी लगने लगें
तब समझो इंसान पतन को है
देश भी अपने अंत को है
जब इस सदी में आकर भी
लोग पाखंडियो को पूजने लगे
उन ढोंगी साधुओं के लिए
अपनी जान भी हाजिर करने लगे
तब समझो लोगों में कैसा ज्ञान है
और कहते हमारा भारत महान है
जब ऐसी बातें मन में आने लगे
देश की चिंता सताने लगे
तब समझो
समझने का वक़्त गया
कुछ करने का वक़्त हो आया है
हमारे ही हाथ हमारा भविष्य है
उसे महफूज़ करने का वक़्त हो आया है
इससे भी बुरा ना हो जाए कहीं
अब सब सँवारने का वक़्त हो आया है

Rating: 2.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *