ज़िन्दगी चल रही है

ज़िन्दगी चल रही है

By |2018-02-03T19:10:10+00:00February 3rd, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

 

मोहब्बत लिये ज़िन्दगी चल रही है
सफ़र में क़ज़ा साथ भी चल रही है

किनारे उधर रंजो-ग़म चल रहे हैं
किनारे इधर हर ख़ुशी चल रही है

तेरी ज़ुल्फ़ बिखरी तो छाई घटायें
हवा भी लिये कुछ नमी चल रही है

नज़र जब नज़र से मिली , मुस्कुराई
बिना मय के ये मयक़शी चल रही है

कहीं भूख इतनी , निवालों की ख़ातिर
ग़लत राह पर बेबसी चल रही है

कहीं रौशनी की शुआओं से बचकर
छुपाकर बदन तीरगी चल रही है

हैं अल्फ़ाज ‘आनन्द’ जज़्बात के बिन
हवा में कहीं शाइरी चल रही है

स्वरचित
डॉ आनन्द किशोर
दिल्ली

Comments

comments

Rating: 2.0/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares
~~~~~~~||| * परिचय *|||~~~~~~~ नाम : डॉ आनन्द किशोर ( Dr Anand Kishore ) उपनाम : 'आनन्द' सुपुत्र श्री लेखराज सिंह व श्रीमती रामरती धर्मपत्नी : श्रीमती अनीता पता : मौजपुर , दिल्ली शैक्षिणिक योग्यता : M.B.,B.S. सक्रिय लेखन : ग़ज़ल, कविता, गीत में विशेष रूझा

Leave A Comment