सियासी दंगे

Home » सियासी दंगे

सियासी दंगे

By |2018-02-10T23:14:11+00:00February 10th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

सियासत में नहीं फंसना, जुबां दो धारियाँ होंगी…
बहुत सोची, बहुत ओछी, उनकी तैयारियां होंगी…
बहकायेंगे बहुत हमलोगों को,  अब खुद समझना है…
हमारा ही गला होगा, हमारी आरियाँ होंगी…

– वंदना अहमदाबाद

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment