तेरे मेरे  अधरों  पर  हरदम  बस  यों  ही  मुस्कान  रहे ।

सूरत सुहानी  देख  तुम्हारी  भूल  गए  हम तो  रब  को ।

तेरा  चेहरा  याद  रहा  बस  भूल  गए  हम  तो  सबको ।

 

चंदा ने  भी  तुझ  से  ही   यह   रंगत   अपनी   पाई   है ।

तेरे रूप  की  अरुणाई   से   कलियां   भी   मुस्काई   हैं ।

 

प्यार भरी इस मधुर डगर पर मिलकर साथ चलेंगे  हम ।

मिलन  तेरे  में  हम  तो  प्रिये  भूलेंगे   दुनिया  के   गम ।

 

तेरे  जैसा  इस  दुनिया  में  मिला  हमें   अवलंब   नहीं ।

तेरे  बिन  अब  तो  मेरा  है  कोई   भी   आलम्ब   नहीं ।

 

प्रेम फुहार से सराबोर हैं अब  तो  तन  मन  दोनो  मेरे ।

सुबह सलिल हुई खुशी की छंट गए गम के  मेघ  घनेरे ।

 

तेरे मेरे  अधरों  पर  हरदम  बस  यों  ही  मुस्कान  रहे ।

एक दूजे के प्यार का दिल में बस यों  ही  सम्मान  रहे ।

 

– कवि बिहोरसिंह “बिहोर”

No votes yet.
Please wait...

बिहोर सिंह "विहंग"

20 वर्ष एक शस्त्र सैनिक के रूप में भारतीय वायु सेना में सेवा के उपरांत वर्तमान में भारतीय स्टेट बैंक में अधिकारी संपर्क सूत्र 9999480645 Email-bihor22@gmail.com

Leave a Reply

Close Menu