उर में आता कोई चला जाता

उर में आता कोई चला जाता,
सुर में गाता कभी है विचलाता;
सुनहरी आभा कभी दिखलाता,
कभी बे-रंग कर चला जाता !

वश भी उनका स्वयं पे कब रहता,
भाव भव की तरंगें मन बहता;
नियंत्रण साधना किये होता,
साध्य पर पा के वो कहाँ रहता !

जीव जग योजना विविध रहता,
विधि वह उचित कहाँ अपनाता;
कष्ट अपने ही कर्म से पाता,
दोष दूजों पे पर लगा चलता !

मुक्त द्रष्टा बने विचर चलते,
ध्येय उनके कहाँ कोई होते;
संदेशे सतत जो हृदय पाते,
वही करते हुए नज़र आते !

समर्पित त्वरित वे प्राय रहते,
स्वत: स्फूर्त भुक्त नित रहते;
प्रकृति से कर्म गुण प्रकट पाते,
हिये परमात्म ‘मधु’ टपकाता !

रचयिता: गोपाल बघेल ‘मधु’
www.GopalBaghelMadhu.com

टोरोंटो, ओंटारियो, कनाडा

(मधुगीति १७०२०८)

No votes yet.
Please wait...

गोपाल बघेल ‘मधु’, अध्यक्ष, अखिल विश्व हिन्दी समिति, कनाडा

मथुरा, उ. प्र., भारत में जन्म । एन. आई. टी., दुर्गापुर (प.बंगाल) से १९७० में यान्त्रिक अभियान्त्रिकी, ए. आई. एम. ए. नई दिल्ली से १९७८ में प्रबन्ध शास्त्र, आदि । ४८ वर्ष काग़ज़ उद्योग में महा प्रबंधन, व्यापार व आयात निर्यात ।

Leave a Reply

Close Menu