वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे

Home » वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे

वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे

मधुगीति १८०२१२ ब

वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे?
निर्गुण की पहेली, अहसास की अठखेली;
गुणों का धीरे धीरे प्रविष्ट होना सुमिष्ट लगना,
पल पल की चादर में निखर सज सँवर कर आना !

महत- तत्व से जैसे प्रकट होता सगुण का आविर्भाव,
हर सत्ता का रिश्ता रख आत्मीय अवलोकन;
पूर्व जन्मों के भावों का प्रष्फुरीकरण,
वाल हास में लसी मधुरिमा का आलिंगन !

अब वह कहाँ गया माँ को शिशु समझ निहारना,
चाहना दुग्ध माँगना निकट रख नेह करना;
हर किसी की गोद आ आनन्द लेना,
नानी नाना को नयनों से आत्मीय दुलार देना !

व्यस्त होगये हो अब अपने खेलों में,
हाथी घोड़ों गाड़ियों के खिलौनों में;
यू-ट्यूव पर चलचित्र देखने में,
माँ को ‘ना’ करने औ दौड़ाने में !

अहं का यह अवतरण, चित्त का विचरण,
है तो आत्म विस्तार का व्याप्तिकरण;
पर ‘मधु’ के प्रभु की उसमें छिपी चितवन,
कहती है, वे वे ही हैं, जो अतीत से अपने थे !

रचयिता: गोपाल बघेल ‘मधु’

टोरोंटो, ओंटारियो, कनाडा
www.GopalBaghelMadhu.com

Say something
Rating: 3.0/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
मथुरा, उ. प्र., भारत में जन्म । एन. आई. टी., दुर्गापुर (प.बंगाल) से १९७० में यान्त्रिक अभियान्त्रिकी, ए. आई. एम. ए. नई दिल्ली से १९७८ में प्रबन्ध शास्त्र, आदि । ४८ वर्ष काग़ज़ उद्योग में महा प्रबंधन, व्यापार व आयात निर्यात ।

One Comment

  1. माधुरी शर्मा (मधु) February 13, 2018 at 12:04 pm

    शानदार

    No votes yet.
    Please wait...

Leave A Comment