क्षितिज को ढूँढता पागल मैं कोई परिंदा हुँ ,
खुद की इस उड़ान पे अब खुद से ही शर्मिंदा हुँ ,
तुम्हें इस बात का कोई इल्म है या भी नहीं ,शायद
तुम्हारे नाम पे मरता , तेरे ही नाम से जिन्दा हुँ ।

Say something
Rating: 4.0/5. From 5 votes. Show votes.
Please wait...