मुक्तक

जब हमने कुछ करने का ठान लिया
ख़ुदा की रहमतों के साये में
तो किसी तूफाँ की औकाद कहाँ
जो हमारा रस्ता रोके।।।

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu