मुक्तक

मुक्तक

By |2018-01-20T17:07:38+00:00December 13th, 2015|Categories: कविता|0 Comments

जब हमने कुछ करने का ठान लिया
ख़ुदा की रहमतों के साये में
तो किसी तूफाँ की औकाद कहाँ
जो हमारा रस्ता रोके।।।

Say something
No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link