बाबा दी पाठशाला

* पाकिस्तान के पेशावर में विश्वविद्यालय पर हुए आतंकी हमले पर लिखी गई पंजाबी कविता :-

* * * बाशा दी पाठशाला * * *

अल्ला पै गई कालजे ठंड तेरे
साडे रंगले चुबारे ढैअ गए ने ।
नाम लै के तेरा पक चुकी फसल
अज चोर वढ के लै गए ने ।।

जे तूं जंमदौं तेरे पीड़ हुंदी
तेरी झोली कुझ हुंदा निघ बाबा ।
मोढे चुकदौं लोथां बालकां दी
तेरा वजूद वी जांदा भिज बाबा ।।

खिदमतगार खुदाई भुब्बां मार के रोंवदा ए
नाले पुछदै इक्को सवाल दस्सो ।
इलम दे तलबगारां दियां गिच्चियां वढ-वढ के
किवें हुंदा ए खुदा हलाल दस्सो ।।

शोभा फुल्लां नाल होए फुलवारी दी
रंग फुल्लां दा वखो-वख हुंदै ।
केहड़ा सोहणा ते केहड़ा कोझा ए
भला माली तों कदों एह दस हुंदै ।।

जे तैनूं जचदा सी इक्को रंग काला
साडे दिलां दा बूहा नहींओं मलणा सी ।
नहींओं भाउंदा साबत-सबूत बंदा
वढ-टुक के उपरों ही घलणा सी ।।

बाशा आखदै सोच-विचार तैनूं
न तूं बोलदा एं न चालदा एं ।
मेरे पिछे तुरदे-तुरदे तुर गए बाल मेरे
हुण होर की तूं भालदा एं ।।

मेरी पाठशाला दे पढ़ाकुओ
हुण नवां पाठ लओ पढ़ बीबा ।
जेहड़ी कलम लिखदी ऐ अमन दे गीत
ओहनूं तीरां वांग लओ घड़ बीबा ।।

जिनां नूं चुंघदे-चुंघदे होए हो बलवान योद्धे
ओथे धरी ऐ हुण इक अग बीबा ।
उठो उठ के वरोह इंज मॉं जायो
तके नज़ारा सारा जग बीबा ।।

चोर-डाकू किसे दे न होण सक्के
मोह इनां दा कदे न पालया जे ।
दोष किसे नूं देण दी लोड़ कोई न
पहलां आपणा घर संभालया जे ।।

भय खायो न वड्डे मालक दा
जेहड़ा सभनां नूं इक्कोसार समझे ।
प्रीत रखे न पापियां ताईं जेहड़ा
भोले पुत्तर दा न जो प्यार समझे ।।

बेड़ी डोलदी ऐ जद मझधार अंदर
ओह आप कदे न आंवदा ए ।
राहों भटकयां नूं धुर पुचाण खातर
नाम वखो-वख धरांवदा ए ।।

अख्खां खोल के जाण-पछाण कर लओ
ओह कद-कद धरती ते आया सी ।
अजे कल ही तकयै दुनिया ने
प्रोफेसर हामिद हुसैन उस नाम धराया सी ।।

२२-१-२०१६ ——वेदप्रकाश लाम्बा

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu