वक्त मेरे हत्थों किरया !

Home » वक्त मेरे हत्थों किरया !

वक्त मेरे हत्थों किरया !

। । ओ३म् । ।

समय का मोल उससे अधिक कौन जानता है जिसने समय गंवा दिया हो । ऐसे ही भावों को दर्शाता प्रस्तुत है यह पंजाबी गीत :

” वक्त मेरे हथ्थों किरया ”

वक्त मेहरबान मेरा
वक्त वक्त ते आंवदै
वक्त इक ज़हरीली नागन
वक्त वक्त नूं खांवदै
न जांदा दिसदै निरमोही
ख़वरे किधरों आंवदै

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त मेरे हथ्थों किरया
वक्त पत्थर दिल ते धरया
वक्त पहाड़ीं झरदे चोअ
वक्त हनेरे मित्तरां दी लोअ
वक्त बद्दल गज्ज-गज्ज आवण
वक्त धरती पाड़
न रही मैं यारां जोगी
न कोई मेरा यार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त अम्बरीं सूरज चढ़या
वक्त हथ्थीं ठूठा फड़या
वक्त दिल दियां दिल विच रहियां
वक्त अख्खियां सब कह गइयां
वक्त पींघां विच असमानीं
वक्त फुल्लां दे ख़ार
न रही मैं नवीं नरोई
न दिसदी बीमार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त जो आखे मैं न मंन्नां
वक्त नपीड़े वांगूं गंन्ना
वक्त दे अग्गे शेर जो होवण
वक्त तों पहलां ढेर ओह होवण
वक्त फौजां फतह बुलावण
वक्त कंडयां दे हार
न मैं गोली राजा जी दी
न मेरी गुफ़्तार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त रौणकां हासे-खेड़े
वक्त हंझू होर वी नेड़े
वक्त कंजर वक्त मरासी
वक्त उडारी वक्त चुरासी
वक्त दिल दरवेश सदींदा
वक्त अख्खियां चार
न कोई साडे अग्गे-पिछ्छे
न कोई विचकार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त वक्त दी मेहर असां ते
वक्त वक्त दा फेर असां ते
वक्त नींहां वक्त बनेरा
वक्त नाग है वक्त सपेरा
वक्त झिलमिल-झिलमिल तारे
वक्त असां दा प्यार
न मैं घुंड चों बाहर आई
न होए दीदार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त खेती खसमां सेती
वक्त खुम्बां उग्गियां
वक्त फरेबी पदभैड़े जंम्में
वक्त कणकां लुग्गियां
वक्त धरती पूजण जोगी
वक्त है अणखीली मुटयार
न मैं मर के मिट्टी होई
न होई दस्तार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . .

वक्त काली रात ग़मां दी
वक्त चिट्टा चादरा
वक्त जोगी तुरदा-फिरदा
वक्त साहां दा आसरा
वक्त हयाती मेरी साथण
वक्त है किश्ती बिन पतवार
न पल्ले मेरे भाड़ा दमड़ी
न कोई उतारे पार

वक्त मेरे हथ्थों किरया . . . . . ।

१९-७-२०१६ वेदप्रकाश लाम्बा
९४६६०-१७३१२

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave A Comment