मदद करो अपनी बन कर मददगार।
जो न इतना कर सके वो मानव है बेकार।।
अंग हैं शरीर के तेरे तारणहार ।
थक क्यों गए कोशिश करो एक बार।।

Rating: 5.0/5. From 3 votes. Show votes.
Please wait...