प्यार की राह पर जो मैं चलने लगी,

कभी हँसने तो कभी रोने लगी ।

अनजानी खुशी मन में समाने लगी ,

कभी बिन बात के मैं घबराने लगी ।

 

प्यार की राह पर जो मैं चलने लगी,

अनजानों में  अपनों को ढूँढने लगी।

सिमटी थी, मैं अब बिखरने लगी,

दुनिया की नज़रें भी बदलने लगी।

 

प्यार की राह पर जो मैं चलने लगी,

अपनों की ताक़ीदें अखरने लगी ।

अजनबी के साथ को तरसने लगी,

मानो ज़िन्दगी, रुख बदलने लगी।

 

Say something
Rating: 4.6/5. From 22 votes. Show votes.
Please wait...