मैं ना रही

Home » मैं ना रही

मैं ना रही

By |2018-03-21T18:34:17+00:00March 21st, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

नहीं रही यदि दुनिया में तो
फूलों में मिल जाऊंगी
हरी घास पर तुम गुजरो
अहसास तुम्हें दे जाऊंगी
चंपा बेला की महकों में
याद तुम्हें आ जाऊंगी
अधकली कलियों में
दुल्हन सा शरमाऊंगी
मोगरे के पीले फूलों में
बंसत सा मिल जाऊंगी
हरसिंगार के फूलों में
खुश्बु की तरह मंडराऊंगी
तुम भूल ना जाना मुझको
बगिया में मिल जाऊंगी
#नीरजा शर्मा #

Say something
Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link