अमानत

Home » अमानत

अमानत

कुछ डरा,
कुछ सहमा
सा रहता है वजूद मेरा,
ना जाने
कैसे करूं हिफाजत
अमानत-ए-दिल की योगी|
-अंजना योगी

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link