इक नाल इक रलसी फिर वी इक होसी

। । ओ३म् । ।

( मेरी मातृभाषा पंजाबी और राष्ट्रभाषा हिन्दी है ; मैं दोनों भाषाओं में लिखता हूँ । प्रस्तुत रचना पंजाबी भाषा में है । )

* इक नाल इक रलसी फिर वी इक होसी *

इंज करसी ते उंज करसी
मेरा हत्थ हत्थां दे विच फड़सी
कोई वखरा मेरा नाँअ धरसी

दिल दे हनेरे घर अंदर
बाण दीपक करसी उजियाला
जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला

जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला . . . . .

मेरे साह होसण ओहदी हिक्क होसी
साडी वक्खरी कोई दिक्ख होसी
इक नाल इक रलसी फिर वी इक होसी

बंद अक्खियाँ राहीं धुर तक वज्जसी
प्रेम दा इक्को – इक खड़ताला
जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला

जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला . . . . .

आउंदा दिस्से मैं छुप जावाँ
मैंनूँ लब्भ सके ओहदा नाँअ गावां
ओह पिट्ठ करे मैं थप्प लावां

खेडां खेडण दा चाअ मेरा
बुज्झसी आप बुझारतां वाला
जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला

जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला . . . . .

पखेरू उड्डदे बण के डार जिवें
बद्दलां ते मोर दा प्यार जिवें
मन विच गुरुआँ दा सतकार जिवें

मेरे रोम – रोम विच राम वसेंदा
तक्कसी दूजे जुग दा गोपाला
जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला

जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला . . . . .

मैं इंज करसां ते उंज करसां
ओहदे हत्थां विच मुरली बणसां
जिस तरां वजासी उंज वजसां

इस लोक तों उस लोक तक
छिड़सी राग कोई मतवाला
जद आउसी मेरा शाम बँसरी वाला

जद आउसी मेरा श्याम बँसरी वाला . . . . . !

-वेदप्रकाश लाम्बा ९४६६०-१७३१२

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Voting is currently disabled, data maintenance in progress.

Leave a Reply