तेरी ओर

Home » तेरी ओर

तेरी ओर

हिसाब-किताब लगाया,
तो क्या बताएं योगी?
तेरी यादों का काफिला,
मेरी उम्र से लम्बा निकला |
सफर मे चले तो हौसलें से,
मगर हर रास्ते हर पडाव पर,
तेरी ओर कम्बख्त पांव फिसला |

  – अंजना योगी

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment