मैं एक कलाकार हूँ,

सुंदरता से कुरूपता तक आंकता; ।

बहुत छिद्र हैं इस जग में’

बस कल्पना में ही टांकता हूँ ।

Say something
No votes yet.
Please wait...