सारा वक्त परेशां से थे हम,
ना जाने क्या शोर था ;
बहुत कुछ टूटने की आवाजें थी,
दिमाग सै सोचा जो इक पल,
तूफां था जो दिल में उठा था|
अंजना योगी

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *