पीपल, बरगद के छाँव में
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |
कहाँ से कहाँ ये गया जमाना
नहीं दिखता अब चीज़ पूराना
अब धुल न लगती पाँव में
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |

धोती कुरता सब छूटा भाई
कमर बेल्ट लटकी गर टाई
टाईट जींस है पाँव में
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |

बेना पंखी छुट गया सब
कूलर एसी जगह ले लिए अब
कहाँ खो गयी शुद्ध हवा अब , 
जो मिलती झुरमुट के छाँव में,
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |

उपर-नीचे सेहत होती
स्वस्थ शरीर को आत्मा रोती
सब रोग-दोष की दवा है मिलती,
बड़े बुजुर्ग के पाँव में;
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |

सादा सरल गाँव का जीवन,
भीड़-भाड़ और शहर में अनबन,
कितना पाए किसका ले लें,
सब अपने-अपने है दांव में;
था बड़ा मज़ा मेरे गाँव में |

Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *