हमको तुमसे प्यार है ,

कब हमें इनकार है !

सच कहूँ तो तुमसे ही,

मेरी ज़िन्दगी गुलज़ार है।

 

प्यार का गुल खिला ,

मुझको मेरा हमदम मिला।

किसी से क्या गिला ,

खुशियों का बढ़ा सिलसिला।

 

लगता है तुम्हारे बिना ,

यह ज़िन्दगी बेज़ार है ।

हमको तुमसे प्यार है ,

कब हमें इनकार है !

Rating: 4.3/5. From 8 votes. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *