जहां मे प्यारा क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
जहां मे हंसता क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
जग है मयखाना तो
साकी क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
मजहब धर्म की बातों का
मजमून क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
आंखो मे जग की रडके
तेरा मेरा प्यार सनम
राजनीति जिस बात
पर भडके
तेरा मेरा प्यार सनम
फिर भी दुनिया मे
बाकी क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
सलीबों मूरतों मजारों मे
रहता क्या है
तेरा मेरा प्यार सनम
नफरते फैलाने से भी
मिट ना पाये जो योगी
है वह बस
तेरा मेरा प्यार सनम
इंसानियत जो मरने
ना दे
तेरा मेरा प्यार सनम

Say something
Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...