संदेशवा

Home » संदेशवा

संदेशवा

मैं तो सखी जन्मो की बिरहन
क्या बतलाऊं जिया की अग्न
क्षण पहर कैसे काटे रैन-दिन
उमरिया ठहरी मोरी पिया बिन
ए री आज संदेशवा आया है
हुलसाया है आज मेरा मन
–  अंजना योगी 

Say something
Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment