हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में

हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
चंचल तू हमेशा बनी रहे।
तेरे माथे पर न शिकन पड़े ।
कुछ झूठा-झूठा हँसते हैं ।
तुम को प्रिय खुश रखने की
हम हर पल कोशिश करते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
H.D.चैनल चलवा कर
LED भी फिट करवा कर
नई तकनीक की मशीनों से
नित अपना घर हम भरते हैं ।
पूरी जांबाज़ी से हे प्रिय!
हर जुल्म तेरा हम सहते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
हर माह फिल्म दिखलाता हूँ ।
Shopping भी खूब कराता हूँ ।
काम न करना पड़े तुम्हें
नौकरानी का बोझ उठाता हूँ ।
Beauty parlour न miss हो जाए कहीं
कहीं purse न खाली हो जाए!
सारी कमाई लाकर प्रिय!
तेरे ही हाथ में धरते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
श्रोता पक्का मैं बना रहूँ ।
जुबान कहीं न खुल जाए।
हर dress में unfit हो चाहे
तारीफ मेरी fit कर जाए।
तेरे over makeup पर भी
रसीले शेर हम कहते हैं ।
इतने पर भी देखो प्रिय
मिलने के पल को तरसते हैं ।
विरह की आग में जलते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर-डर के आगे बढ़ते हैं ।।
।।मुक्ता शर्मा ।।

Rating: 4.2/5. From 5 votes. Show votes.
Please wait...
Voting is currently disabled, data maintenance in progress.

Mukta Tripathi

सरकारी स्कूल में हिन्दी अध्यापक के पद पर कार्यरत,कालेज के समय से विचारों को संगठित कर प्रस्तुत करने की कोशिश में जुटी हुई , एक तुच्छ सी कवयित्री,हिन्दी भाषा की सेवा मे योगदान देने की कोशिश करती हुई ।

Leave a Reply