पुत्रमोह

Home » पुत्रमोह

पुत्रमोह

पुत्रमोह ही तो था कि बेटे की लालच में किशोरीलाल ने दुबारा शादी करने का फैसला लिया था । उसकी बीवी को पिछले महीने फिर से बेटी हुई, अब किशोरीलाल की चार लड़कियां हो गयी थी । बेटे की लालच में वो अब चार लड़कियों का पिता था लेकिन सिर्फ नाम का, क्योंकि पुत्रमोह में कभी पुत्रीप्रेम नहीं उपज सकता है ।
उसने अपनी बीवी और चारों लड़कियों को घर से बेघर कर दिया, गरीबी का आलम था तो ना ही पुलिस में रपट लिखी ना ही पंचायत जुटी । बेटियों को लेकर लाली अपने मायके आ गयी, कुछ दिनों में उसने झाड़ू पौछा कपड़े का काम दूसरों के यहाँ शुरू कर दिया । बड़ी बेटी भी मां की तरह एक दर्ज़ी के यहाँ काम करने लगी । इतना कमा लेती थी दोनों की भूखा ना सोना पड़े ।
उधर किशोरीलाल को एक बेघर औरत मिल गयी और उसने अपनी पहली शादी की बात छुपाकर दूसरी शादी कर ली । बेटे की चाह में उसने अपनी बीवी को रानी की तरह रखा, साल भर भी नहीं हुआ कि किशोरीलाल पांचवीं लड़की का बाप बन गया । इस बात पर उसने अपनी बीवी को बहुत पीटा तो उसकी बीवी घर में रखी नगदी और बच्ची को लेकर भाग गयी ।
शाम को घर लौटकर उसने खूब छानाबीनी की ना तो बीवी मिली ना ही पैसे । पुत्रमोह ने उसे ठग लिया था ।
— जयति जैन “नूतन”, भोपाल
Say something
Rating: 3.0/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
लोगों की भीड़ से निकली साधारण लड़की जो अपने बेबाक और स्वतंत्र लेखन के जरिये जानी जाती हैं । बचपन से ही डॉक्टर बनने के लिए दबाब रहा, लेकिन अपने विचारों के जरिये कुछ अलग कर दिखाने के लिए घरवालों से बगावत की, लेकिन पूरी तरह सफलता नहीं मिली । बस माँ ने उस वक़्त भरपूर सहयोग दिया था और माँ के स्वयं लेखिका बनने के सपने को साकार करने के लिए कलम उठाई और अपनी अलग पहचान बनाने के लिए पढ़ाई के साथ लेखन शुरू किया ताकि माँ अपने सपने को बेटी में जी सकें, उसे पूरा होते हुए देखें औऱ आज जयति को लोग एक बेबाक लेखिका के रूप में जानते हैं । इसके पीछे उनकी ८ साल की मेहनत है और जमाने के ताने हैं जिन्होनें आगे बढ़ने के लिए मजबूर कर दिया । युवा लेखिका, सामाजिक चिंतक जयति जैन "नूतन" पिता का नाम- डॉ. प्रमोद कुमार जैन माता का नाम- श्रीमति अलका जैन पति का नाम- इं. मोहित जैन जन्म - 01-01-1992 जन्म स्थान - रानीपुर जिला झांसी स्थायी पता- जयति जैन "नूतन ", 441, सेक्टर 3 , शक्तिनगर भोपाल , पंचवटी मार्केट के पास ! pin code - 462024 वर्तमान पता - हिंजवाडी पुणे महाराष्ट्र ई-मेल- Jayti.jainhindiarticles@gmail.com शिक्षा - डी. फार्मा , बी. फार्मा , एम. फार्मा व्यवसाय- फार्मासिस्ट , लेखिका विधा - कहानी , लघुकथा , कविता, लेख , दोहे , मुक्तक , शायरी प्रकाशित रचनाओं की संख्या- 350 से ज्यादा रचनायें समाचार पत्रों व पत्रिकाओ में प्रकाशित प्रकाशित रचनाओं का विवरण - सामाज़िक लेखन, दैनिक, साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्रों में, मासिक- त्रैमासिक पत्रिकाओं में , जनकृति अंतराष्ट्रीय पत्रिका में,हिंदी साहित्यिक वेब पत्रिकाओं में, चहकते पंछी ब्लोग, साहित्यपीडिया, शब्दनगरी, www.momspresso.com व प्रतिलिपि वेबसाइट, international news and views.com (INVC) पर ! सम्मान- "विश्व हिंदी रचनाकार मंच" द्वारा संचालित "रचनाकार प्रोत्साहन योजना" के अन्तर्गत "श्रेष्ठ नवोदित रचनाकार सम्मान" से सम्मानित ! = B - अंतरा शब्द शक्ति सम्मान 2018 से सम्मानित ! = C- भारत के युवा कवि कवियत्री के तहत JMD पब्लिकेशन (दिल्ली ) दुआरा श्रेष्ठ युवा रचनाकार सम्मान से सम्मानित । उपलब्धि- हिंदी सागर त्रेमासिक पत्रिका में " अतिथि संपादक " ! ग्राम रानीपुर (जिला झांसी उप्र) की पहली लेखिका । अन्य उपलब्धि- बेबाक व स्वतंत्र लेखिका ! लेखन के क्षेत्र में 2010 से अब तक । साझा काव्य संग्रह A- मधुकलश B- अनुबंध C- प्यारी बेटियाँ D- किताबमंच E- आगामी काव्य संग्रह - भारत के युवा कवि औऱ कवयित्रियाँ एवं कुछ अन्य । लेखन का उद्देश्य- समाज में सकारात्मक बदलाव !

Leave A Comment