मीठे बोल

Home » मीठे बोल

मीठे बोल

By |2018-05-21T22:32:19+00:00May 21st, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

मीठे बोल

दो मीठे बोल, बोल दो
तेरी पल भर की बेरुखी
छीन लेती है हर पल के चैन
होठों की मंद मुस्कान से नैनों की चाल से
दिल के अहसास से
कितना सुकून मिल जाता है
जरा सा सोंच ले
भुला देते हैं हर गम तेरे मीठे बोल
दो मीठे बोल, बोल दो
है दर्द देता, वर्षों की मोहब्बत का रिस्ता
पल में तोड़ देना
है आसाँ बहुत मीठा बोल के रिस्ते जोड़ लेना
दिल की मोहब्बत के रिस्ते को तुम
मजबूती से जोड़ दो
दो मीठे बोल, बोल दो
है मुश्किल निभाना, तेरे दिल से दूर जाना
गुजरी जो दिल पे –
तेरा दिल जाने या मेरा दिल जाने है
प्रेम दीवानी , ओ मेरी प्रेम दीवानी
हर वक्त तू नहीं मेरे रूबरू
जरा दिल के दरवाजे खोल, हसके बोल दे
दो मीठे बोल, बोल दे
तेरी अदाएं, दिल की सदायें
प्यार की बात है
ओ तेरे नखरे, चेहरे पे गुस्सा
फिर भी दिल पे प्यार है
है मुश्किल समझना, ये कैसी चाल है?
ऐ दिल जानी बोल दे
दो मीठे बोल, बोल दे

सुबोध उर्फ सुभाष
20.5.2018

Say something
Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link