वृद्धाश्रम

Home » वृद्धाश्रम

वृद्धाश्रम

By |2018-05-20T16:29:56+00:00May 20th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

वृद्धाश्रम में

स्वजनों के लिए व्याकुल ,

आत्मीयता ढूँढते नेत्र ,

निःशब्द होते हुए भी

कुछ नहीं, बहुत कुछ

हमसे कह जाते हैं ।

मानो पूछते हैं !

गृहस्थाश्रम को महत्ता देकर

हमने कोई त्रुटि कर दी ?

सन्तान पर सर्वस्व न्योछावर

कर बड़ी भूल कर दी !

प्रेम व त्याग का

यदि यही है प्रतिफल ,

तो हमें देखकर

वात्सल्य-भाव के प्रति

विश्वास उठ जाएगा कल !!

Say something
Rating: 4.0/5. From 6 votes. Show votes.
Please wait...

About the Author:

परास्नातक,संस्कृत, इ०वि०वि०।(लब्ध -स्वर्णपदक) डी०फिल०, संस्कृत विभाग, इ०वि०वि०।

Leave A Comment